साेनिया की नाराजगी के बाद नागरिकता बिल पर शिवसेना का यू-टर्न

0
51

नागरिकता (संशाेधन) बिल, 2019 बुधवार काे राज्यसभा में पेश हाेगा। सरकार ने साेमवार रात लाेकसभा में इसे अासानी से पारित करवा लिया था, लेकिन राज्यसभा की राह उतनी अासान नहीं दिख रही। लाेकसभा में समर्थन करने वाली शिवसेना अाैर जनता दल (यूनाइटेड) का राज्यसभा में क्या रुख रहेगा, यह अभी साफ नहीं है। शिवसेना द्वारा बिल काे समर्थन देने पर कांग्रेस अध्यक्ष साेनिया गांधी ने मंगलवार काे पार्टी नेतृत्व से नाराजगी जताई। इसके बाद शिवसेना के सुर बदल गए। पार्टी प्रमुख अाैर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि लाेकसभा में पूछे सवालाें का जवाब मिलने तक राज्यसभा में बिल का समर्थन नहीं करेंगे। साथ ही शिवसेना सांसद संजय राउत ने भी कहा कि लोकसभा में जाे हुआ, उसे भूल जाइए। दूसरी तरफ, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली जदयू में भी बिल के समर्थन पर विरोध के सुर उठने लगे हैं।

पार्टी उपाध्यक्ष प्रशांत किशाेर अाैर महासचिव पवन के वर्मा ने बिल काे असंवैधानिक बताते हुए नीतीश से पार्टी के रुख पर दाेबारा विचार का अाग्रह किया। इन दाेनाें दलाें का रुख बदलने की सूरत में भाजपा के फ्लाेर मैनेजराें काे राज्यसभा में बिल पारित करवाने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ सकती है। हालांकि, भाजपा सूत्र राज्यसभा में बिल पारित हाेने के प्रति अाश्वस्त दिखे।

असर:दाेनाें दलाें का रुख पलटा ताे सरकार काे कम से कम 2 अाैर सांसदाें का समर्थन जुटाना पड़ेगा
राज्यसभा में अभी 240 सदस्य हैं। सभी सदस्य माैजूद रहें ताे बिल पारित करवाने के लिए 121 सदस्याें का समर्थन जरूरी है। लाेकसभा जैसे समीकरण रहे ताे सरकार के पास 128 सदस्याें का समर्थन हाेगा, जाे जरूरी संख्या से 7 ज्यादा है। हालांकि, जदयू के 6 अाैर शिवसेना के 3 सदस्य बिल के विराेध में जाते हैं ताे सरकार काे दाे सदस्याें का समर्थन जुटाना पड़ेगा। अगर यह दाेनाें दल मतदान से अलग रहें ताे भी सरकार काे काेई दिक्कत नहीं हाेगी। भाजपा सूत्राें ने राज्यसभा में 124 से 130 तक सदस्याें का समर्थन मिलने का भराेसा जताया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here